न्यू मैरिड कपल: फ्यूचर की फाइनेंशियल प्लानिंग कैसे करें देखिए ये आर्टिकल

मैरिज के बाद हर लड़की एक बेहद ख़ूबसूरत लाइफ के सपने संजोती है। और उन सपनों को पूरा करने में अपने पार्टनर का साथ चाहती हैं । दोनों के कुछ फाइनेंशल डिसीजन जो कि उनकी लाइफ को खुशनुमा कर दे। अगर आप भी उन न्यूली कपल में से एक हैं और अपनी लाइफ को हर ऐशो आराम के साथ जीना चाहतीं हैं तो ये ब्लॉग आपके लिए ही है।आइये जानते हैं कुछ आसान से टिप्स।

न्यू मैरिड कपल: फ्यूचर की फाइनेंशियल प्लानिंग कैसे करें देखिए ये आर्टिकल

फीचर्स डेस्क  मैरिज लाइफ का वो पार्ट है जिसे हर कोई कपल बेहद खूबसूरत बनाना चाहता है।मैरिज के बाद हर लड़की के कुछ खूबसूरत ख्वाब होते हैं जिसे वो अपने पार्टनर के साथ पूरे करने के सपने संजोती है और आज कल की पढ़ी लिखीं लड़कियाँ ये जानतीं हैं कि शादी के बाद उनकी जिम्मेदारी और भी बढ़ने वाली है अपने फैमिली के प्रति ।इसलिए मैरिज के बाद के कई खूबसूरत  पलों के साथ साथ वो फ्यूचर को सिक्योर करने के लिए फाइनेंशल प्लानिंग को भी अपने माइंड में एक खास जगह देतीं हैं। आप कुछ बातों  का अगर ध्यान रखतीं हैं तो आप अपने फ्यूचर को फाइनेंशल रूप से सिक्योर कर सकतीं हैं।

अपने सेल्फ खर्चों की लिस्ट बनाएं

मैरिज के बाद एक्स्ट्रा खर्चे बढ़ जाते हैं जो कि मैरिज से पहले नही होते हैं ।इसके लिए पहले आप अपने सेल्फ खर्चों की लिस्ट बनाएं ।और लिस्ट बनाने के लिए आप पहले एक डायरी लें और उसमें खुद के पर्सनल खर्चे लिखें ।अब उसे  फिर से रीचेक करें कि किन चीजों के बिना आपका वर्क नही चल सकता और कौन सी चीजें ऐसी हैं जिनके बिना आप अपना काम चला सकतीं हैं।मैरिज के बाद कई बार कोम्प्रोमाईज़ भी करना पड़ता है क्योंकि आपने एक खूबसूरत संसार सजाया है अपने जीवनसाथी के साथ और उस संसार को आपको बेहतर बनाना है।तो खुद के खर्चों में थोड़ा सा बदलाव करना जरूरी है।

घर के खर्चों में भी हाथ बटाएं

जब तक आप  अपने पेरेंट्स के साथ रहते हैं तब तक आपके पेरेंट्स आपके  सारे खर्चे उठाते हैं।लेकिन  जब आपकी मैरिज होती है तो आपकी रिस्पांसबिल्टी बहुत ज्यादा बढ़ जाती है जिसके चलते आपका भी दायित्व है कि आप अपनी फैमिली की फाइनेंशियल रूप से हेल्प करें।क्योकि आपके पेरेंट्स ने आपको इतना कैपिबल तो  बना  ही दिया कि आप अपनी फैमिली की रिस्पांसबिल्टी अपने पेरेंट्स के साथ शेयर कर सके।

फैमिली प्लानिंग भी है इंपोर्टेन्ट

आज कल के कपल्स फैमिली प्लानिंग को ज्यादा इंपोर्टेन्स नही देते हैं।उनका मानना होता है कि अभी तो मैरिज हुई है ।2,3 साल ओनली एन्जॉयमेंट करेंगे ।अपने कैरियर को और बड़ा रूप देंगे और फाइनेंशल रूप से अपने फ्यूचर को सिक्योर करेंगे।ये बहुत जरूरी है लेकिन ये सब सोचने में कई बार फैमिली प्लानिंग करने में बहुत देर हो जाती है और फिर बहुत सारी प्रोब्लेम्स को फेस करना पड़ता है।इसलिए फैमिली की प्लानिंग भी सही टाइम पर करना बहुत जरूरी है। क्योकि आपकी फैमिली प्लानिंग भी आपकी लाइफ का एक खूबसूरत पार्ट है।

हस्बैंड वाइफ दोनो मिल कर खर्चे उठाएं

जब आप अपना सुखी संसार बसाती हैं तो उस संसार को सजाने की रिस्पांसबिल्टी आप दोनों की है।कई बार देखा जाता है कि हस्बैंड वाइफ दोनो के कमाने पर भी घर का खर्चा एक  ही उठता है और दूसरे की सारी सैलरी सेविंग में जाती है।लेकिन अगर आपकी प्लानिंग ठीक होगी तो सिर्फ एक को ही घर का खर्चा नही उठाना पड़ेगा।क्योंकि अब जो भी खर्चे आप कर रहीं हैं वो आप दोनों के ही हैं तो अगर दोनों ही घर को बराबर से चलाएंगे और साथ साथ बराबर से सेविंग करेंगे तो आपकी लाइफ की गाड़ी भी स्मूथ चलेगी।

इन्वेस्टमेंट भी है इंपोर्टेन्ट

आज कल हस्बैंड  वाइफ दोनो ही कमाते हैं क्योंकि आज कल की महँगाई में दोनों का कमाना बहुत इंपोर्टेन्ट भी है। अगर आप न्यूली मैरिड कपल हैं तो आपको इन्वेस्टमेंट के बारे में अभी से ही सोचना पड़ेगा क्योंकि शुरू का टाइम एन्जॉयमेंट में निकल जाता है और कई बार हमको अफसोस करना पड़ता है कि एन्जॉयमेंट के चक्कर मे इन्वेस्टमेंट तो करना ही भूल गए। जरूरी नही जब आपको जरूरत हो तभी प्रॉपर्टी बनाएं।प्रॉपर्टी का होना फ्यूचर के लिए बहुत इंपोर्टेन्ट है।अपनी सैलरी का एक छोटा पार्ट भी अगर आप बचाते हैं तो कई सालों बाद वो छोटा सा पार्ट एक साथ मिल कर एक बड़ी रकम में तब्दील हो जाएगा । और उस बड़ी रकम को आप किसी भी चीज में इन्वेस्ट कर सकती हैं जो कि वो फ्यूचर में आपको सपोर्ट देगा।बस ध्यान रखें कि नॉमिनी सही से मार्क करें।जिससे आगे चल कर आपके बच्चों को कोई प्रॉब्लम न हो।

आपसी अंडरस्टेंडिंग है इंपोर्टेन्ट

कपल की आपस मे अंडरस्टैंडिंग बहुत ज्यादा इंपोर्टेन्ट है। क्योंकि उनको जो भी कुछ करना है साथ मे ही करना है।लाइफ का कोई भी डिसीजन हो अपने लाइफ पार्टनर की सहमति या असहमति जरूर लें।जो भी  करें मिल कर करे। आपको अपना पैसा कहां इन्वेस्ट करना है,या आपको मकान ,कार लेनी है तो कितना बजट है आपका या फिर बच्चों से रिलेटेड कोई भी डिसिजन हो दोनो की अंडरस्टैंडिंग बहुत मायने रखती है।

पिक्चर्स क्रेडिट-गूगल